• June 22, 2024

भाजपा नेताओं ने की बंगाल के बंटवारे की मांग, अब ममता की TMC ला रही यह प्रस्ताव; क्या रणनीति?

पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी टीएमसी विधानसभा में राज्य के बंटवारे की मांग के खिलाफ प्रस्ताव लाने की तैयारी में है। मामले की जानकारी रखने वालों के मुताबिक इसे इसी बजट सत्र में पेश किया जा सकता है। इससे पहले शुक्रवार को बंगाल विधानसभा द्वारा एक अन्य प्रस्ताव पास किया गया, जिसके तहत सरी और सरना धर्म को आदिवासी पहचान दी गई। एक वरिष्ठ टीएमसी नेता ने कहा कि बंगाल को बांटने की कोशिश की जा रही है। पार्टी इस हफ्ते इसके खिलाफ प्रस्ताव ला सकती है। उन्होंने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि सदन के सभी सदस्य, चाहे वह भले ही विपक्ष के ही क्यों न हों, इस प्रस्ताव का समर्थन करेंगे।

West Bengal: ममता बनर्जी की पर्ची मिलने के बाद चंद्रिमा ने किया महंगाई  भत्ते का ऐलान, भाजपा ने उठाया सवाल - West Bengal Budget 2023 Chandrima  announces dearness allowance after ...

भाजपा सांसद कर चुके हैं मांग
गौरतलब है कि बीते कुछ वर्षों में अलीपुरदुआर के सांसद जॉन बार्ला समेत विभिन्न भाजपा नेताओं ने उत्तरी बंगाल को अलग राज्य या केंद्रशासित प्रदेश बनाने की मांग की है। हालांकि पार्टी बंगाल में किसी तरह का विभाजन नहीं चाहती है। भाजपा प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा कि भाजपा बंगाल में किसी तरह के बंटवारे के खिलाफ है। टीएमसी भ्रष्टाचार और घोटालों से घिरी हुई है। जब इनके नेता किसी गांव में जाते हैं तो उन पर हमले होते हैं। अब उनकी पार्टी इस तरह की बातें करके लोगों का और मीडिया का ध्यान भटकाना चाहते हैं।

West Bengal CM Mamata Banerjee Says Countrys Economic Situation Getting Bad  To Worse | सीएम ममता बनर्जी का दावा- देश की आर्थिक स्थिति बदतर होती जा रही,  मुझे संदेह है कि...

भाजपा का गढ़ रहा है नॉर्थ बंगाल
गौरतलब है कि नॉर्थ बंगाल के पहाड़ी इलाकों में राजनीतिक दल और गोरखा संगठनों ने भारतीय गोरखालैंड संघर्ष समिति नाम से एक मोर्चा बना रखा है। इन लोगों की मांग अलग गोरखालैंड राज्य की है। बता दें कि उत्तरी बंगाल 2021 के विधानसभा चुनाव से पहले ही भाजपा का गढ़ रहा है। 2021 के विधानसभा चुनाव में जब बंगाल में टीएमसी ने सत्ता हासिल की थी, भाजपा ने उत्तरी बंगाल के आठ जिलों की 54 सीटों में से 30 पर जीत हासिल की थी। वहीं, टीएमसी ने प्रदेश की कुल 294 सीटों में से 213 जीती थीं, जबकि भाजपा को 77 पर जीत मिली थी। 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने प्रदेश की 42 सीटों में से 18 और उत्तरी बंगाल की आठ में से सात जीती थीं।

Digiqole Ad

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *